उत्तराखण्ड समाचार 09 मार्च 2021

0
51
Uttarakhand News 9 March 2021

उत्‍तराखंड में सियासी हलचल के बीच जेपी नड्डा से मिले सीएम त्रिवेंद्र रावत

उत्तराखंड की राजनीति में एकबार फिर से हलचल शुरू हो गई है। आज सोमवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत अचानक दिल्ली के लिए रवाना हुए। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। आपको बता दें कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को आज पहले ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में अंतरराष्ट्रीय दिवस पर एक कार्यक्रम में शामिल होना था।

इससे पहले शनिवार को भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह ने देहरादून आकर प्रदेश भाजपा कोर ग्रुप की बैठक ली थी। इस दौरान नेतृत्व परिवर्तन से लेकर मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें रहीं। हालांकि, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों को खारिज कर दिया था।

 

उत्तराखंड: सीएम रावत का महिला दिवस पर आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को तोहफा, की ये बड़ी घोषणा

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्त्‍ताओं के साथ ही महिला मंगल दलों को सौगात दी। उन्होंने घोषणा की कि कोरोना काल में सेवा देने वाली आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्त्‍ताओं को 10-10 हजार और महिला मंगलदलों को 15 हजार रुपये की धनराशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार विभिन्न योजनाओं के जरिये महिला सशक्तीकरण की दिशा में लगातार काम कर रही है।

सोमवार को गैरसैंण के किसान मेला मैदान में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को वर्चुअल माध्यम से संबोधित किया। पहले इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री को स्वयं आना था, लेकिन खराब मौसम के चलते हेलीकॉप्टर उड़ान नहीं भर पाया। इस दौरान उन्होंने कहा कि समाज एवं प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए महिलाओं का सशक्त होना जरूरी है। कहा कि 18 मार्च को राज्य सरकार के चार साल पूर्ण हो रहे हैं। इस दौरान राज्य में महिलाओं को पैतृक सम्पति में सह खातेदार बनाने का अधिकार दिया गया है। भविष्य में इसके काफी सकारात्मक परिणाम आएंगे। यदि कोई महिला बैंक से ऋण लेना चाहेगी तो उसे भटकना नहीं पड़ेगा। इसके अलावा मुख्यमंत्री घस्यारी कल्याण योजना भी लागू की गई है, इसके लिए बजट में 25 करोड़ रूपये का प्राविधान किया गया है। महिलाओं के सिर से घास का बोझ हटाने के लिए सुनियोजित योजना बनाई जा रही है। योजना के तहत बहुत सस्ते दरों पर पशुचारा देने की व्यवस्था की जा रही है। जो किसान घास उगाएंगे, उन्हें इस योजना के तहत प्रति एकड़ 72 हजार रुपये दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य में दुग्ध उत्पादन को बढ़ाने के लिए 50 प्रतिशत डिस्काउंट पर 10 हजार दुधारू गाय दी जा रही हैं। दुग्ध उत्पादक जो दूध डेयरी को उपलब्ध कराएंगे। उस पर चार रुपये प्रति लीटर बोनस दिया जा रहा है।

कार्यक्रम में सहकारिता राज्य मंत्री डॉ.धन सिंह रावत ने राजकीय पालीटेक्निक गैरसैंण में रोजगार, उद्यमिता विकास व नवाचार (सेंटर आफ एक्सीलेंस इन इम्पलाइमेंट) का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि सेंटर आफ एक्सीलेंस के माध्यम से राज्य सरकार का प्रयास उद्यमिता को बढ़ावा देना व स्थानीय उत्पादों में वेल्यू एडिशन कर उन्हें बाजार उपलब्ध कराना है। जिससे युवा स्थानीय स्तर पर ही उद्यम स्थापित कर सके। कहा कि यह केंद्र पलायन को रोकने में अहम भूमिका निभाएगा। कार्यक्रम में पं. दीनदयाल किसान कल्याण योजना के अन्तर्गत प्रदेश में महिला स्वयं सहायता समूहों के लिए वृहद ब्याज मुक्त ऋण वितरण कार्यक्रम की शुरुआत की गई।

इस अवसर पर जिले के 156 स्वंय सहायता समूहों को पांच करोड़ 27 लाख का ब्याज मुक्त ऋण वितरण किया गया। इस अवसर पर  महिला आयोग अध्यक्ष विजया  बर्थवाल, विधायक महेंद्र भट्ट व  मुन्नी देवी शाह, जिला अधिकारी स्वाति एस भदौरिया, परियोजना निदेशक कौशल विकास डॉ.आर राजेश कुमार, भाजपा जिलाध्यक्ष रघुवीर बिष्ट और पूर्व विधायक अनिल नौटियाल उपस्थित थे।

 

पूर्व सीएम हरीश रावत ने दमाऊ बजाकर किया पेशवाई का स्वागत, लगाई झाड़ू।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत (हरदा) के स्वागत का अनोखा अंदाज संतों को भी भा गया। पूर्व मुख्यमंत्री ने पहले तो महामंडलेश्वरों के रथ के आगे पेशवाई मार्ग पर झाड़ू लगाई। इसके बाद ढोल दमाऊ बजाकर संतों का स्वागत किया। स्वागत के अनूठे अंदाज को देख संत भी पूर्व मुख्यमंत्री के मुरीद हो गए। यही नहीं नागा साधुओं ने तो हरीश रावत के सेल्फी खिंचवाकर उनको आशीर्वाद दिया।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी की पेशवाई के स्वागत के लिए सोमवार को हरिद्वार पहुंचे। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत के उन्होंने कनखल के देशरक्षक चौक पर पेशवाई का स्वागत करना था, लेकिन देशरक्षक औषधालय में भोजन के बाद वे सीधा शिवडेल स्कूल के पीछे पेशवाई मार्ग की ओर निकल गए। यहां आचार्य महामंडलेश्वर के रथ पहुंचे तो हरीश रावत सड़क पर झाड़ू लगाने लगे। उनको झाड़ू लगाते थे दूसरे कांग्रेस कार्यकर्ता भी सड़क साफ करने लगे।

इसके बाद हरीश रावत ने एक लोक कलाकर से उत्तराखंड का पारंपरिक वाद्य यंत्र लिया और स्वयं बजाने लगे। इस बीच उन्होंने लोक कलाकारों के साथ पारंपरिक उत्तराखंडी नृत्य भी किया। हरीश रावत ने संतों को फूल माला पहनाकर उनका स्वगत किया।

श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी की पेशवाई में अखाड़े की परंपरा और लोक संस्कृति का वैभव दिखाई दिया। हाथी, घोड़ों, ऊंटों पर सवार सैकड़ों साधु-संतों और नागाओं ने कुंभ मेला क्षेत्र में प्रवेश किया। तन पर भस्म रमाए श्री दिगंबर नागा और हाथों में लाल ध्वज थामे दिगंबर नागा पेशवाई की शान रहे।

रथों पर चांदी के सिंहासन पर बैठे आचार्य महांडलेश्वर और महामंडलेश्वरों को श्रद्धालुओं हर हर महादेव के जयकारे के साथ नमन किया। वहीं पंजाब का बैगपाइपर बैंड का सुरमयी संगीत और कदमताल भी श्रद्धालुओं को खूब भायी। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने देशरक्षक चौक पर पेशवाई का भव्य स्वागत किया।

 

सरकार की उपलब्धियां जन-जन तक पहुंचाने का किया आह्वान

भारतीय जनता पार्टी जनजाति मोर्चा की नगर कार्यकारिणी के पदाधिकारियों के स्वागत व परिचय के लिए हुई बैठक में मंडल अध्यक्ष गौरव चावला ने सरकार की उपलब्धियां जन-जन तक पहुंचाने का आह्वान किया। कहा कि सरकार की ओर से कई जनकल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही हैं, साथ ही जनहित में कई फैसले लिए हैं, ऐसे में उनकी जानकारी घर-घर तक पहुंचनी जरूरी है।

बाबूगढ़ के एक वेडिंग प्वाइंट में हुई बैठक में एसटी मोर्चा के नवनियुक्त मंडल उपाध्यक्ष उत्तम नेगी, संदीप जोशी, महामंत्री राहुल सुराना, मंडल मंत्री सोहन सिंह, नीलम चौहान, पूनम शर्मा, संजय राणा, सूर्य देव, किरण रावत, मीडिया प्रभारी बिंदिया शर्मा, कोषाध्यक्ष हेमलता चौहान का स्वागत करने के साथ सभी पदाधिकारियों व सदस्यों का परिचय हुआ। नए पदाधिकारियों से संगठन की मजबूती के लिए कार्य करने पर जोर दिया गया। अध्यक्षीय संबोधन में एसटी मोर्चा के मंडल अध्यक्ष सुधांशु तोमर ने कहा कि मोर्चा के पदाधिकारी सरकार की उपलब्धियां घर-घर पहुंचाने का काम करेंगे, साथ ही संगठन की मजबूती के लिए भी कार्य किया जाएगा।इस मौके पर जिला उपाध्यक्ष अमित डबराल, जिला मंत्री सुमन कासव, प्रदेश उपाध्यक्ष एसटी मोर्चा सुरेंद्र चौहान, मंडल अध्यक्ष गौरव चावला, मंडल महामंत्री धीरेंद्र पटवाल, सभासद गुड्डी देवी, सविता ध्यानी, अनुपमा, जयप्रकाश चौहान, सलमान, मोहन सिंह, प्रवीण चौहान, रितिक जोशी, राकेश गोयल, मनोहर सिंह, आकाश, सुनील आदि मौजूद रहे।

व्यापार मंडल रानीपोखरी ने रक्तदान शिविर में सामाजिक कार्यकत्र्ताओं, जनप्रतिनिधियों व दुकानदारों ने 22 यूनिट रक्तदान किया। लंबरदार फार्म रानीपोखरी में आयोजित शिविर में शांति प्रपन्न शर्मा राजकीय चिकित्सालय ऋषिकेश के ब्लड बैंक प्रभारी डॉ. एमके पांडे ने कहा कि कोरोना काल में रक्तदान जीवनदायी साबित हो रहा है। संकट की इस घड़ी व्यापार मंडल रानीपोखरी का यह प्रयास सराहनीय है। चिकित्सालय के वरिष्ठ परामर्शदाता एचवी नौडियाल, डॉक्टर एनके पांडे ने रक्त देने वालों को रक्तदान के फायदे भी बताएं। शिविर में व्यापार मंडल रानीपोखरी के अध्यक्ष अरुण शर्मा, ग्राम प्रधान सुधीर रतूड़ी, बीडीसी जीवन चौहान आदि शामिल रहे।

 

आन-बान और शान से निकली महानिर्वाणी अखाड़े की पेशवाई,

महानिर्वाणी अखाड़े की पेशवाई ने सोमवार को शाही शान-ओ-शौकत के साथ अपनी छावनी में प्रवेश किया। यह पेशवाई इस मायने में भा खास थी कि इसमें बड़ी संख्या में नागा संन्यासियों के साथ साधु-संत व विदेशी श्रद्धालु भी शामिल हुए। तेज धूप के बावजूद पेशवाई की भव्यता के दर्शनों को कुंभनगरी में आस्था का सैलाब उमड़ा रहा।

कनखल स्थित दक्षेश्वर मंदिर से शुरू हुई पेशवाई शिवडेल स्कूल, श्रीयंत्र मंदिर, जगजीतपुर बस स्टैंड, बूढ़ी माता मंदिर, देशरक्षक औषधालय तिराहा, सर्राफा बाजार, पहाड़ी बाजार व आरके मिशन रोड होते हुए बंगाली मोड़ स्थित अखाड़े की छावनी में संपन्न हुई। पेशवाई को लेकर स्थानीय निवासियों का उत्साह भी देखते ही बन रहा था। पेशवाई में शामिल नागा संन्यासियों व साधु-संतों का वो स्थान-स्थान पर स्वागत कर रहे थे। वहीं, हेलीकॉप्टर व पैरा-ग्लाइडर से भी पेशवाई पर पुष्प वर्षा हो रही थी।भव्य रूप से निकाली गई इस पेशवाई में अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी विशोकानंद व सचिव महंत रविंद्रपुरी समेत 40 से अधिक महामंडलेश्वर और बड़ी संख्या में नागा संन्यासी व संत-महंत शामिल हुए।

 

उत्तराखंड इंटरनेशनल टेनिस फेडरेशन कप में भारतीय खिलाड़ि‍यों का दबदबा

ओम फार्म ओपन उत्तराखंड इंटरनेशनल टेनिस फेडरेशन कप में पहले दिन भारत के खिलाड़ि‍यों का दबदबा रहा। सोमवार को खेले गए 18 मैचों में से 15 भारत की झोली में आए, जबकि दो अमेरिका व एक बेल्जियम के खाते में गया। देहरादून की शांति टेनिस एकेडमी में चल रहे टूर्नामेंट में पहला मैच भारत के निशांत डबास और निथिलान इरिक के बीच खेला गया। जिसमें निशांत डबास ने 6-2 व 6-2 से जीत दर्ज की। दूसरा मैच भारत के रनवीर सिंह और बेल्जियम के न्योवेन डेक के बीच खेला गया। न्योवेन डेक ने 6-1, 6-0 से जीत दर्ज की। तीसरे मैच में भारत के तोरस रावत ने रितविक को 6-3 व 6-2 से हराया। भारत के विशेष पटेल व अमेरिका के देवाहरशिष्ठ नीलम के बीच खेले गए मैच में देवाहरशिष्ठ नीलम ने 7-6 व 7-6 से जीत दर्ज की।

भारत के ए गांगुली ने हरिकेश को 6-2 व 6-0 से शिकस्त दी। भारत के मानव जैन ने अरुणर्वा मोजमदार को 7-5 व 7-5 से, ध्रुव ने कवीर को 7-5 व 6-3 से, रोबिन लोटलिकार ने सार्थक गांधी को 6-4 व 6-1 से, दक्ष प्रसाद ने सचिन कुमार को 6-0 व 6-2 से, परी छावन ने महालक्ष्मी को 7-5 व 6-0 से, मोनिल लोटलिकार ने अंश कुंडु को 6-3 व 6-3 से हराया।

भारत के धनुष पटेल ने स्पेन के अल्बर्ट सेगुरा को 6-1 व 6-2 से, भारत की कोटिष्ठा मोडाक ने बेल्जियम की मिरथी मोइंस को 6-4 व 6-4 से, भारत के कार्तिक सक्सेना ने नेपाल के अक्की रावत को 7-5 व 7-6 से, अंजलि राठी ने कजाकिस्तान की झनसाया को 6-1 व 6-4 से, अमेरिका की नव्या ने भारत की एच चौधरी को 6-2 व 6-1 से हराया। भारत की अरुण लक्ष्मी ने सुहानी को 6-0 व 6-1 से और भारत की गार्गी पंवार ने मिली चुग को 6-3 व 6-1 से हराया।

 

पर्वतीय रूटों का मालभाड़ा 10 से 20 रुपये क्विंटल तक बढ़ा, नई लिस्ट जारी

पर्वतीय रूटों पर भाड़े की मनमानी के बाद देवभूमि व्यापार मंडल ने किराये की शहरवार लिस्ट जारी कर दी है। हल्द्वानी से पर्वतीय रूटों पर मालभाड़ा 10 से 20 रुपये तक बढ़ाया गया है। किराया बढऩे से पर्वतीय क्षेत्रों में सामान के दाम बढऩे की संभावना है।

पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। इसका असर ट्रांसपोर्ट कारोबार पर पड़ रहा है। पेट्रोलियम पदार्थ बढऩे के साथ ही पाट्र्स, मरम्मत व मजदूरी भी बढ़ गयी है। ऐसे में कारोबारी मनमाने हिसाब से माल भाड़ा वसूल रहे हैं। किराये को लेकर कारोबारियों में असमंजस की स्थिति को देखते हुए देवभूमि व्यापार मंडल ने सोमवार को पर्वतीय शहरों की दूरी के हिसाब से किराया निर्धारित किया है।

कुमाऊं के शहरों का हल्द्वानी से भाड़ा प्रति क्विंटल

स्थान   पुराना   नया

नैनीताल  60    70

अल्मोड़ा  80   92

रानीखेत  80   92

बागेश्वर 110  125

चम्पावत 130  150

पिथौरागढ़ 150 170

डीडीहाट  160  180

धारचूला  200   230

थल    150    170

बेरीनाग 130    150

देवाल  150   170

देवभूमि उद्योग व्यापार मंडल के मंडल प्रवक्ता हरजीत सिंह चड्डा ने बताया कि महंगाई से व्यापारी व ट्रांसपोर्टरों के सामने कारोबार चलाने की चुनौती खड़ी हो गयी है। डीजल, पेट्रोल, बीमा, टोल प्लाजा के साथ चालान भी बढ़ गए हैं। व्यापारियों से सामंजस्य बनाकर समान भाड़ा लेने की अपील की गयी है।

हल्द्वानी ट्रांसपोर्ट यूनियन के अध्यक्ष राजकुमार नेगी ने बताया कि डीजल-पेट्रोल के साथ ही मरम्मत की मजदूरी, पाट्र्स, लोहा, एंगल, पत्ती, सरिया महंगा हो गया है। जिला पंचायत की चुंगी से भी ट्रांसपोर्टरों पर असर पड़ रहा है। कुछ कारोबारी मनमाना किराया वसूल रहे हैं। जिस कारण शहर वार लिस्ट जारी की गयी है।

ट्रांसपोर्टर दया किशन शर्मा ने बताया कि डीजल व पेट्रोल के दाम बढऩे से ट्रांसपोर्ट कारोबार की लागत काफी बढ़ गयी है। जिस कारण कारोबारियों को घाटा उठाना पड़ रहा है। ऐसे में किराया बढ़ाना कारोबारियों की मजबूरी बन गया है। सभी को समान किराया लेना चाहिए।

ट्रांसपोर्टर नरेंद्र भौरियाल का कहना है कि कुछ व्यापारी संगठन व बिना वाहन वाले ट्रांसपोर्टर माल भाड़ा बढऩे से आहत हैं और इसका विरोध कर रहे हैं। डीजल के दाम बढऩे से वाहन स्वामियों की कमर टूट चुकी है। वह अपने वालों की किश्त तक जाम नहीं कर पा रहे हैं।

 

 

पूर्व मिस इंडिया ग्रैंड इंटरनेशनल अनुकृति गुसाईं ने कहा- महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़कर आत्मनिर्भर बनाना लक्ष्य

महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना है तो उन्हें स्वरोजगार से जोड़ना होगा। उन्हें रोजगार उपलब्ध कराना होगा। यह कहना है कि पूर्व मिस इंडिया ग्रैंड इंटरनेशनल अनुकृति गुसाईं का। उन्होंने कहा कि महिला उत्थान एवं बाल कल्याण संस्थान इस दिशा में तेजी से काम कर रहा है। महिला दिवस पर संस्थान की ओर से समाज के विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रही महिलाओं को सम्मानित किया गया।

सम्मान समारोह के उद्घाटन मौके पर मुख्य अतिथि प्रमुख सचिव राधिक झा ने कहा कि महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाकर सही मायनों में उनका सम्मान किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि यदि महिलाएं स्वावलंबी होंगी, तो हमारा समाज और हमारा राष्ट्र भी विकास के पथ पर आगे बढ़ेगा। उन्होंने बताया कि संस्थान ने 12 हजार महिलाओं को प्रशिक्षण देकर, उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक प्लेटफार्म भी उपलब्ध कराया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि संस्था भविष्य में महिलाओं को ओर अधिक संसाधन उपलब्ध कराएगी। इस दौरान विभिन्न क्षेत्रों में बेहतर काम करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया गया।

 

लच्छीवाला में ट्रेन की चपेट में आकर शिशु हाथी की मौत

देहरादून वन प्रभाग के लच्छीवाला वन रेंज के अंतर्गत खैरी वनवाह रेलवे ट्रैक के बीच सोमवार तड़के ट्रेन की चपेट में आने से एक शिशु हाथी की मौत हो गई। पशु चिकित्सकों व वन विभाग की टीम ने शिशु हाथी का पोस्टमार्टम कर उसे दफना दिया है। उधर, वन विभाग ने नंदा एक्सप्रेस के लोको पॉयलट के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत मुकदमा भी दर्ज किया गया है।

रेंज अधिकारी लच्छीवाला घनानंद उनियाल ने बताया की सोमवार तड़के गश्त के दौरान गश्ती दल ने वनवाह बीट के अंतर्गत रेलवे ट्रैक के किनारे एक शिशु हाथी को मृत देखा। जिसकी जानकारी तत्काल उच्चाधिकारियों को दी गई। उन्होंने बताया कि जिस दौरान घटना घटी, उस दौरान नंदा देवी एक्सप्रेस ट्रेन यहां से गुजरती है। उसी की चपेट में आने से हाथी के बच्चे की मौत हुई। उन्होंने बताया कि दुर्घटना लच्छीवाला वन रेंज के अंतर्गत खैरी वनवाह-कांसरो पुल के नजदीक हुई। शिशु हाथी की उम्र लगभग ढाई वर्ष बताई जा रही है। सूचना पाकर डीएफओ देहरादून राजीव धीमान, उप प्रभागीय वनाधिकारी ऋषिकेश भारत भूषण मार्तोलिया भी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। वन विभाग के अधिकारियों की उपस्थिति में पशु चिकित्सा अधिकारी राकेश नौटियाल, डॉ. राजीव दुबे ने हाथी के बच्चे का पंचनामा व पोस्टमार्टम किया। शिशु हाथी का बिसरा सुरक्षित रखने के बाद उसे दफना दिया गया है। रेंज अधिकारी घनानंद उनियाल ने बताया कि नंदा देवी एक्सप्रेस ट्रेन के चालक के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। लच्छीवाला वन रेंज के अंतर्गत लच्छीवाला नकरौंदा रेलवे ट्रैक पर गत वर्ष भी ट्रेन की चपेट में आने से दो शिशु हाथियों की मौत चुकी है। क्षेत्र में हाथियों का आवागमन लगा रहता है। पिछले कुछ महीनों में एक के बाद एक हाथियों के बच्चों की मौत वन विभाग भी सकते में है। हालांकि वन विभाग इससे पूर्व जंगली हाथियों की सुरक्षा की दृष्टि से अर्ली वार्निंग सिस्टम लगाने की बात कह चुका है। लेकिन अभी तक यह सिस्टम लगाए नहीं जा सका। हालांकि पार्क से सटे रेलवे ट्रैक पर कुछ जगह यह सिस्टम लगाया गया है।

 

उत्‍तराखंड में सोमवार को आए कोरोना के 58 नए मामले, कोई मौत नहीं

उत्तराखंड में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 58 नए मामले मिले। अच्छी बात ये है कि किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। वहीं आठ जनपदों में कोरोना का कोई नया मामला नहीं आया है। वहीं सैंपल पॉजिटिविटी रेट 0.006 फीसद रहा।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, अलग-अलग लैब से 8899 सैंपलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई, इनमें 8841 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। नैनीताल में सबसे अधिक 27 लोग संक्रमण की चपेट में आए हैं। इसके अलावा देहरादून में 13, हरिद्वार में 10, ऊधमसिंह नगर में सात व चमोली में एक व्यक्ति संक्रमित मिला है। अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत, पौड़ी, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग, टिहरी व उत्तरकाशी में कोई नया मामला नहीं मिला है। इधर, विभिन्न जिलों से 26 संक्रमित मरीज आज ठीक हुए हैं।

अभी तक प्रदेश में 97 हजार, 480 लोग संक्रमित हुए हैं। जिनमें 93715 स्वस्थ्य हो चुके हैं। फिलवक्त 662 एक्टिव केस हैं। 1408 मरीज राज्य से बाहर जा चुके हैं। राज्य में कोरोना संक्रमित 1695 मरीजों की मौत भी हो चुकी है।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण की रफ्तार लगातार बढ़ती जा रही है। सोमवार को प्रदेश में 243 केंद्रों पर टीकाकरण अभियान चला। जिनमें 22 हजार 748 व्यक्तियों को टीका लगाया गया। इनमें साठ साल से अधिक उम्र के 13338 और 45 से 59 साल की उम्र के बीच के 616 लोग शामिल रहे। इसके अलावा 5360 स्वास्थ्य कर्मी व 3432 फ्रंटलाइन वर्कर्स का भी टीकाकरण किया गया। कुल मिलाकर अब तक राज्य में 60 हजार 636 व्यक्तियों का पूर्ण वैक्सीनेशन हो चुका है। जबकि 95 हजार 239 स्वास्थ्य कॢमयों व 78 हजार 208 फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है।

रैंकर परीक्षा परिणाम आने के बाद ही होगी कांस्टेबल भर्ती, डीजीपी ने कहा सब इंस्पेक्टरों की भी होगी भर्ती

 प्रदेश में पुलिस कांस्टेबल बनने की चाह रखने वाले युवाओं को अभी और इंतजार करना होगा। डीजीपी अशोक कुमार का कहना है कि विभागीय स्तर पर रैंकर्स परीक्षा फरवरी में ही संपन्न कराई गई है। इसके परिणाम आने और विभाग में रिक्तियों के बाद ही नए सिरे से कांस्टेबल की भर्ती के लिए विज्ञप्ति जारी की जाएगी।

सोमवार को पुलिस विभाग द्वारा महिला सशक्तीकरण को लेकर आयोजित सेमिनार में शिरकत करने पहुंचे डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि अप्रैल तक कांस्टेबल की भर्ती को लेकर विज्ञप्ति जारी करने की योजना थी। अभी फरवरी में विभागीय रैंकर्स परीक्षा संपन्न होने और इसका परिणाम जारी नहीं होने के कारण इसमें अभी कुछ समय लगेगा। सब इंस्पेक्टरों की भर्ती की योजना भी बनाई जा रही है। इसके लिए अगले एक सप्ताह में विज्ञप्ति जारी की जाएगी।

डीजीपी ने कहा कि प्रदेश पुलिस महिला सुरक्षा के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। जिसके लिए विभिन्न अभियान चलाए जा रहे हैं। सभी अभियानों को एक सूत्र में पिरोकर मार्च अंत तक अभियानों में और तेजी लाई जाएगी। और प्रदेशों की अपेक्षा उत्तराखंड में महिलाए पुरूषों के जितना ही काम कर रही है। जिस कारण उन्हें थानों और जिलों में शीर्ष प्रतिनिधित्व भी दिया जा रहा है।

2029 में धरती के करीब से गुजरेगा लघुग्रह एपोफिस, नग्‍न आंखों से देखना होगा रोमांचक

पृथ्वी से टकराने की आशंका को लेकर चर्चित लघुग्रह 99942 एपोफिस पृथ्वी के नजदीक से होकर गुजर गया। अगली बार 2029 में धरती के बेहद नजदीक आने पर इसे नग्न आंखों से देखा जा सकेगा। इसके धरती से टकराने की आशंका को विज्ञानियों ने सिरे से खारिज कर दिया है।

आर्यभट्ट प्रेक्षण विज्ञान शोध संस्थान (एरीज) नैनीताल के वरिष्ठ खगोल विज्ञानी डा. शशिभूषण पांडेय ने बताया कि धरती से टकराने की आशंका को लेकर यह लघुग्रह खोज के बाद से ही बेहद चर्चा में रहा था। जिसके चलते नासा समेत अनेक वेधशालाएं इस पर पैनी नजर बनाए हुए थीं। इसकी खोज 2004 में हुई थी। आकार में यह लगभग चार सौ मीटर का है। पांच मार्च को यह धरती के नजदीक से गुजर गया। इसकी तस्वीर नासा समेत कई अन्य स्पेस एजेंसियों ने रडार व ऑप्टिकल दूरबीन से ली हैं। नजदीक से गुजरने के चलते अब इसके बारे में कई अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां मिल सकती हैं। अभी विज्ञानी तस्वीरों का अध्ययन कर रहे हैं। इस बार यह लघुग्रह लगभग 1.68 करोड़ किमी की दूरी से होकर आगे निकल गया। 2029 में 13 अप्रैल को धरती से बेहद करीब से गुजरने पर इसकी दूरी करीब 32 हजार किमी रह जाएगी।

धरती से टकराने की आशंका के बाद अब एपोफिस नग्न आंखों से दिखाई देने को लेकर रोमांच पैदा कर रहा है। डा. शशिभूषण पांडेय के अनुसार, विज्ञानी मान रहे हैं 13 अप्रैल 2029 को यह किसी तारे की भांति तीन मैग्नीट्यूट की चमक लिए होगा। इसकी गति भी अत्यंत तीव्र होगी। मात्र एक घंटे में यह अटलांटिक महासागर को पार कर जाएगा। इसका पाथ आस्ट्रेलिया से होता हुआ हिंद महासागर की ओर होगा। इसके बाद अफ्रीका से होता हुआ आगे निकल जाएगा।

एपोफिस 2029 में धरती व चंद्रमा के बीच से होकर गुजरेगा। भले ही इसके पृथ्वी से टकराने की कोई संभावना नहीं हैै, लेकिन जितनी दूरी से वह गुजरेगा, वह हमारे सेटेलाइट के लिए खतरनाक हो सकता है। सेटेलाइट पृथ्वी से 36 हजार किमी ऊपर विचरण करते हैं। एपोफिस लगभग 32 हजार किमी से होकर गुजरेगा, जिसके चलते इसके किसी सेटेलाइट से टकराने की आशंका से इन्कार नहीं किया जा सकता है। विज्ञानी सेटेलाइट की सुरक्षा को लेकर अभी उपाय खोजने में जुट गए हैं।

[ad id=’11174′]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here