तीर्थस्थल

केदारनाथ – पैदल यात्रा के अनुभव

यों तो इस जगह को किसी परिचय की जरूरत नहीं है। उत्तराखंड के चार धामों में सबसे दुर्गम जगह पर बना यह धाम अपने...

हल्द्वानी में स्थित कालीचौड़ मंदिर का इतिहास।

कालीचौड़ गौलापार में स्थित काली माता का प्रसिद्ध मंदिर हैं। यह मंदिर काठगोदाम रेलवे स्टेशन से 4 किमी की दूरी पर कालीचौड़ मंदिर स्थित...

राष्ट्रीय महत्व की विरासत के रूप में संरक्षित होगा दुनिया का सबसे ऊंचा शिवालय तुंगनाथ

विश्व के सबसे ऊंचे शिवालय तृतीय केदार भगवान तुंगनाथ के प्राचीन मंदिर को राष्ट्रीय महत्व की विरासत के रूप में संरक्षित किया जाएगा। अगले...

मिल गई स्वयंभू शिवलिंग के दर्शन की अनुमति

केदारनाथ यात्रा करने वाले श्रद्धालु अब स्वयंभू शिवलिंग के दर्शनकर पाएंगे। क्योंकि अब गर्भ ग्रह में विराजमान स्वयंभू शिवलिंग के दर्शन की अनुमति श्रद्धालुओं...

देवभूमि में विराजमान वैष्णव शक्तिपीठ : दूनागिरी मंदिर

अल्मोड़ा जिले के द्वाराहाट क्षेत्र में स्थित द्रोणागिरी वैष्णवी शक्तिपीठ को, वैष्णो देवी के बाद दूसरा वैष्णवी शक्तिपीठ माना जाता है। दूनागिरी माता का...

Popular

Subscribe

spot_imgspot_img
error: