बेहद रहस्‍यमयी है ‘महिला नागा साधुओं’ की दुनिया, जानिए कैसे बनते हैं नागा साधु और महिला नागा साधु

0
427

नागा साधु: नागा का इतिहास बहुत पुराना है। नागा साधुओं को पशुपतिनाथ रूप में भगवान शिव की पूजा करते हुए दिखाया गया है। कुंभ मेला नागा बाबाओं के लिए एक महत्वपूर्ण घटना है, क्योंकि यह एकमात्र समय है जब वे हिमालय से नीचे आते हैं। कुंभ वह समय भी है जब साधुओं का दीक्षा समारोह होता है।

कुम्भ में स्नान का पहला अधीकार:

नागा साधुओं ने अ पनी कठोर तपस्या और आत्मज्ञान की स्थिति के कारण कुंभ के दौरान पहली पवित्र डुबकी लगाने का प्रतिष्ठित अधिकार अर्जित किया है। हर कुंभ स्नान को इस तरह से आयोजित किया गया है कि नागा बाबा गंगा, गोदावरी, यमुना और शिप्रा के पवित्र जल में हमेशा सबसे पहले स्नान करते हैं।

नागा साधु बनने के लिए करना पड़ता है कठिन परिश्रम:

नागा साधु बनने की यात्रा असहनीय और कठिन है कि एक सामान्य व्यक्ति नागा साधु नहीं बन सकता। यदि कोई व्यक्ति नागा साधु बनने में रुचि दिखाता है। नागा साधु के जीवन को आगे बढ़ाने के लिए उनकी गंभीरता के बारे में जांच के बाद अखाड़ा उन्हें अनुमति देता है। अखाड़ा ब्रह्मचर्य प्राप्त करने की क्षमता निर्धारित करने के लिए परीक्षणों की एक श्रृंखला के माध्यम से एक व्यक्ति का परीक्षण करता है।

ब्रह्मचर्य को पार करने के बाद व्यक्ति अगले स्तर पर जाता है। महापुरुष बनने के बाद साधक को अवदोता बनाया जाता है. अवदूत एक ऐसे मुकाम पर पहुंच रहा है जो सभी सांसारिक बंधनों से परे है। अब उसे अपने लिए पिंडदान करना है यानी वह अब अपने परिवार और इस दुनिया के लिए मर चुका है।

अब साधु का एकमात्र दायित्व संतान धर्म की रक्षा करना है। वे “युद्ध कला” में अच्छी तरह से प्रशिक्षित हैं। उन्होंने मुगल काल के दौरान आक्रमणकारियों से सनातन धर्म की रक्षा के लिए खुद को सशस्त्र किया। इसे जेम्स लोचटेफेल्ड ने अपनी पुस्तक “द इलस्ट्रेटेड एनसाइक्लोपीडिया ऑफ हिंदुइज्म, वॉल्यूम में भी लिखा है।

नागा साधु को भी करना पड़ता है तप:

आमतौर पर महिला नागा साधुओं का जिक्र भी काम आता है क्‍योंकि महिला नागा साधु दुर्लभ ही दिखाई देती हैं। यहां तक कि कई लोगों को तो यह भी नहीं मालूम है कि पुरुष नागा साधु की तरह महिला नागा साधु भी होती हैं। हिंदू धर्म में साधु-संतों की नागा साधु वाली बिरादरी को अघोरी भी कहा जाता है।

हिंदू धर्म में जिस तरह पुरुष नागा साधु होते हैं वैसे ही महिला नागा साधु भी होती हैं। महिला नागा साधु बनने के लिए भी महिलाओं को कड़ा तप करना होता है। उन्‍हें कठिन परीक्षाओं से गुजरना होता है। महिला नागा साधुओं की परीक्षा कई साल चलती है, वे सख्‍त ब्रह्मचर्य नियमों का पालन करती हैं। फिर जिंदा रहते हुए ही अपना पिंडदान करती हैं, अपना सिर भी मुंडवाती हैं। इसके बाद पवित्र नदी में स्नान करती हैं। तब जाकर उन्‍हें महिला नागा साधु का दर्जा मिलता है।

महिला नागा साधु बहुत दुर्लभ मौकों पर ही नजर आती हैं। यह आम जनजीवन से बहुत दूर घने जंगलों, पहाड़ों, गुफाओं में ही रहती हैं और पूरा समय भगवान की भक्ति में ही लगाती हैं। वे जंगल-पहाड़ों से बाहर निकलकर दुनिया के सामने कम ही आती हैं। आमतौर पर महिला नागा साधु केवल कुंभ या महाकुंभ में ही नजर आती हैं। हालांकि पुरुष नागा साधु भी कम ही नजर आते हैं लेकिन महिला नागा साधुओं का दुनिया के सामने आने के मौके उससे भी कम होते हैं।

पुरुष नागा साधु सार्वजनिक तौर पर भी नग्न ही नजर आते हैं। हालांकि महिला नागा साधुओं को नाम जरूर नागा साधु का दिया जाता है लेकिन वे निर्वस्त्र नहीं रहती हैं। अधिकांश महिला नागा साधु वस्त्रधारी होती हैं और केवल गिरवी रंग का बिना सिला हुआ वस्त्र धारण करती हैं।  ये गेरुए रंग का कपड़े का टुकड़ा रहता है, जिसे वे अपने शरीर के कुछ हिस्‍सों पर लपेटे रहती हैं। साथ ही महिला नागा साधु अपने माथे पर तिलक लगाती हैं और अपने शरीर के कई हिस्सों पर भस्म भी लगाए हुए रहती हैं। महिला नागा साधुओं को हिंदू धर्म में बहुत सम्मान दिया जाता है और इन्हें माता कहकर बुलाया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here