Joshimath Is Sinking: शंकराचार्य मठ समेत पूरे जोशीमठ में दरारें, जानिए पूरी बात, सीएम बोले-जोशीमठ को बचाएंगे

0
349

जोशीमठ में जमीन धंसने की घटनाओं से उत्तराखंड ही नहीं पूरा देश चिंतित है। आए दिन भू-धंसाव की डरा देने वाली तस्वीरें सामने आ रही हैं। जोशीमठ में जमीन धंसने की घटनाओं से हड़कंप और भय का माहौल है। करीब 603 घरों में दरारें आ चुकी हैं और जोशीमठ के लोग डरे हुए हैं। इस मामले को लेकर हिमालयन-भू विज्ञान पर 35 साल से ज्यादा समय से शोध कर रहे एचएनबी गढ़वाल विश्विद्यालय के प्रोफेसर यशपाल सुंदरियाल ने कई अहम बातें बताई हैं।

भूस्खलन के मलबे पर बने हैं गांव और शहर

प्रोफेसर यशपाल बताते हैं, “पहाड़ के ज्यादातर गांव और शहर भूस्खलन के मलबे या स्लोप पर बने हैं. जिस तेजी से जोशीमठ में विकास कार्य हो रहे हैं वो कई सालों से समस्या का कारण बने हुए हैं। जोशीमठ की सतह में चट्टान कम और मिट्टी ज्यादा है। इसके साथ ही खराब पानी प्रबंधन और सीवर प्रबंधन की वजह से होने वाले पानी के रिसाव के कारण जोशीमठ की नींव कमजोर हो गई है।

नींव में दरारें आना स्वाभाविक है

प्रोफेसर यशपाल आगे कहते हैं, “एनटीपीसी के विष्णु गरुड़ प्रोजेक्ट में टनल में विस्फोट किए जा रहे थे। ये विस्फोट इतने शक्तिशाली हैं कि आर्टिफिशियल भूकंप पैदा कर रहे हैं। हिलाजा एक स्लोप पर बसे शहर की नींव में दरार आएंगी और स्वाभाविक है कि जमीन धंसेगी। इसके साथ ही इस बात का भी ध्यान रखा जाए कि उत्तराखंड के अधिकांश क्षेत्र स्लोप या भूस्खलन के मलबे पर बसे हैं।”

भू-धंसाव के संकट का सामना कर रहे जोशीमठ में आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी स्थित नृसिंह मंदिर परिसर में दरारें आ गई हैं। बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने के बाद शंकराचार्य की गद्दी नृसिंह मंदिर में विराजमान रहती है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को नृसिंह मंदिर पहुंचकर भगवान के दर्शन किए और मंदिर परिसर में आ रही दरारों का भी निरीक्षण किया।

हालात का जायजा लेने के बाद सीएम ने कहा कि जोशीमठ के धार्मिक, आध्यात्मिक एवं सबसे पुराने ज्योतिर्मठ की सुरक्षा के लिए सरकार हरसंभव कदम उठाएगी। इस समय हम सबके सामने सबसे पुराने ज्योतिर्मठ को प्राकृतिक आपदा से बचाने की बड़ी चुनौती है। देहरादून पहुंचकर सीएम सीधे सचिवालय स्थित आपदा प्रबंधन नियंत्रण कक्ष गए, जहां उन्होंने अधिकारियों की बैठक ली, जिसमें जोशीमठ को भूस्खलन व भू-धंसाव क्षेत्र घोषित किया गया।

उन्होंने प्रभावित क्षेत्र में कराए जा रहे राहत एवं बचाव कार्यों के साथ विकास कार्यों की निगरानी और सुनवाई के लिए अपर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में शासन स्तर पर और गढ़वाल आयुक्त की अध्यक्षता में स्थानीय स्तर पर उच्च स्तरीय समन्वय समिति बनाने के निर्देश दिए।

केंद्रीय संस्थानों से सहयोग की अपील

सीएम ने आईआईटी रुड़की, वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी रुड़की, सीएसआईआर, सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट रुड़की से जोशीमठ में हो रहे भू-धंसाव के कारणों का अध्ययन एवं उपचार के समयबद्ध रिपोर्ट देने का अनुरोध किया।

प्रभावितों को गले लगाया, भावुक हुए सीएम

घरों में पड़ रहीं दरारों और जगह-जगह पानी के रिसने से दहशत मे आए प्रभावित परिवारों के बीच पहुंचकर सीएम ने उन्हें हिम्मत दी । उन्होंने बुजुर्गों को सुना, बच्चों से बात कीं। प्रभावितों को गले लगाकर आश्वस्त किया कि उनके जानमाल की सुरक्षा सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने मनोहरबाग, सिंहद्वार, गांधीनगर, नरसिंह मंदिर का स्थलीय निरीक्षण किया।

आरोप-प्रत्यारोप से हटकर मिलकर करें काम

सीएम ने कहा कि संकट की इस घड़ी में आरोप-प्रत्यारोप से हटकर एक साथ मिलकर कार्य करने की जरूरत है। उन्होंने अफसरों को निर्देशित किया कि राहत शिविरों में रहने की समुचित व्यवस्था की जाए। राहत शिविरों में चिकित्सा उपचार की भी सभी सुविधाएं उपलब्ध रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here