Home Entertaining नींद अब आती नहीं (कविता)

नींद अब आती नहीं (कविता)

by Atul A

दिल बहल जाता था तब, कागज के खिलौने से भी,
मखमली बिस्तर में भी नींद अब आती नहीं
ख़्वाहिश पूरी हो जाती थी कभी, बारिश के आ जाने से भी,
बहता समुंदर भी अब इस दिल को बहला पाता नहीं
धूल की गुबार में नहा के, माथे में आती थी ना एक भी शिकन,
अब हल्की हवा भी इस दिल को भाती नहीं

बदल गया जमाना, या बदला नजरिया,
बदल गयी हवा, या बदल गयी फितरत,
हालात बदले हैं या, हालात ने बदल दिया है।

कुछ इस तरह से कर लिया है खुद को कैद,
आंखे भारी तो हैं, पर बंद होना चाहती नहीं।
मखमली बिस्तर में भी, नींद अब आती नहीं


उत्तरापीडिया के अपडेट पाने के लिए फ़ेसबुक पेज से जुड़ें।

You may also like

Leave a Comment

Are you sure want to unlock this post?
Unlock left : 0
Are you sure want to cancel subscription?
-
00:00
00:00
Update Required Flash plugin
-
00:00
00:00