यदि जोड़ों में दर्द है तो सर्दियों में हो जाएं सावधान

0
64

ठंड के मौसम की शुरुआत धीरे-धीरे होने लगी है। ऐसे में सर्दियों के मौसम में गठिया रोगियों की समस्या बढ़ जाती है। गठिया की समस्या विशेषकर बुजुर्गों और बच्चों में होती है, ऐसे में बुजुर्गों और बच्चों में हड्डियों के तकलीफ की समस्या को नजरअंदाज ना करें और हड्डी रोग विशेषज्ञ को दिखाएं।

मिली जानकारी के अनुसार, हड्डी रोग विशेषज्ञ पी सी पंत का कहना है कि, वैसे तो गठिया रोग बुजुर्ग व बच्चों में अधिक होता है, लेकिन बदलती जीवनशैली के दौर में यह युवाओं में भी हो जाता है।

अभिभावक, बच्चों में सर्दी खासी होने को नजरअंदाज कर देते हैं। इस वजह से कई बच्चे गठिया रोग का शिकार हो जाते हैं। वैसे तो गठिया रोग बुजुर्गों में आम बात है। गठिया रोग होने पर शरीर में जोड़ों में दर्द और उठने बैठने में परेशानी होने लगती है। गठिया रोग होने पर मधुमेह व ब्लड प्रेशर का इलाज कराना भी मुश्किल हो जाता है।

खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाने से यूरिक एसिड जोड़ों में इकट्ठा हो जाता है। जिससे व्यक्ति को अचानक चलने उठने या बैठने में परेशानी होने लगती है। कभी-कभी अधिक लापरवाही बरतने से घुटनों को इंप्लांट कराने की नौबत भी आ जाती है। कभी-कभी ठंड के मौसम में फ्रैक्चर हुए हड्डियों में भी दर्द की शिकायत होती है।

गठिया रोग के कारण-

1. खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने से।

2. शरीर में विटामिन डी की कमी होने से।

3. जंक फूड से।

4. सर्दी खांसी जैसी बीमारी में लापरवाही बरतने से।

गठिया रोग से बचाव के उपाय-

यदि आपको जोड़ों में दर्द अनुभव होता है तो, हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर को अवश्य दिखाएं। प्रतिदिन व्यायाम करने, टहलने और मालिश करने से भी इस रोग से निजात पाई जा सकती है। यदि जोड़ों में अधिक दर्द है तो घूमने-फिरने और सीढ़ियां चढ़ने-उतरने के समय छड़ी का सहयोग ले। अधिक नमी वाली जगह और ठंडे पानी के संपर्क में ज्यादा ना रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here