कुमाऊनी शैली में संवरेगे हल्द्वानी के 6 चौराहे

0
23
haldwani City Naintial

हल्द्वानी के 6 चौराहे संवरेगे कुमाऊनी शैली में, साथ में जानिए हल्द्वानी के ट्रेफिक की समस्या से मुक्त करने के लिए उठाए जा रहे अन्य जरूरी कदम

हल्द्वानी नगर के चौराहों के सौदर्यीकरण कर इन्हें कुमाउनी कलाकृतियों द्वारा सजा कर इन्हे आकर्षक बनाया जाएगा साथ ही ये कुमाऊनी संस्कृति का प्रचार-प्रसार भी करेंगे। नगर के 6 चौराहों को कुमाऊनी शैली और कलाकृतियों से सजाया और सवारा जाएगा। नैनीताल जिला सहकारी बैंक चौराहे से लेकर काठगोदाम स्थित नरीमन चौराहे तक स्थित इन चौराहों के अलावा कालाढ़ुंगी मार्ग स्थित कुछ चौराहों को कुमाऊनी कलाकृतियों द्वारा सजाया जाएगा। इस प्रोजेक्ट को पूरा करने की लागत लगभग 10 करोड़ आँकी गयी है। हल्द्वानी नगर के इन चौराहों को विकसित करने के लिए शासन से मंजूरी मिल गयी है।

जिलाधिकारी सविन बंसल ने मीडिया से बातचीत के दौरान यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कुमाऊं का प्रवेश द्वार होने के नाते हल्द्वानी के चौराहों को यहां की सांस्कृतिक पहचान के रूप में विकसित किया जाएगा। चौराहों के विकसित होने के बाद यहां आने वाले पर्यटक कुमाऊं की सास्कृतिक विरासत से रूबरू होंगे। उन्होंने जानकारी दी कि शहर के नैनीताल कोआपरेटिव बैंक चौराहा, काठगोदाम रेलवे स्टेशन चौराहा, नरीमन तिराहा, शीशमहल तिराहा हाइडिल गेट तिराहा, पीलीकोठी तिराहाकठघरिया चौराहे को विकसित करने के लिए ब्लूप्रिंट तैयार कर लिया गया है। इसके साथ ही रानीबाग में गेट वे आफ कुमाऊं के रूप में द्वार विकसित किया जाएगा। नैनीताल बैंक चौराहे को कुमाऊं रैजीमेंट के प्रतिक चिह्न के रूप में विकसित किया जाएगा। हाइडिल गेट को कुमाऊनी शैली पर सजाया जाएगा। काठगोदाम रेलवे स्टेशन को ट्रेन व कुमाऊंनी थीम पर तैयार किया जाएगा। नरीमन तिराहे में कुमाऊं के महापुरुषों व महिलाओं स्टैच्यु लगाए जाएंगे। पीलीकोठी तिराहे को राजस्थानी थीम पर तैयार किया जाएगा। कठघरिया चौराहे को नैनीताल लेक व पाल नौका के डिजाइन से सजाया जाएगा। 10 दिन के अंदर इसकी डीपीआर तैयार कर ली जाएगी।  डीपीआर तैयार होने के बाद शासन से बजट मिलते ही चौराहों के सौंदर्यीकरण का काम शुरू कर दिया जाएगा। 10 करोड़ की लागत से बनने वाले इन सभी चौराहों का कालाकल्प कर कुमाऊं की पहचान के रूप में उन्हें विकसित किया जाएगा। अगले पर्यटन सीजन से पहले शहर में इन सभी चौराहों का निर्माण कार्य पूरा कर लिया जाएगा।

चौराहों के सौंदर्यीकरण के दौरान हटेगा अतिक्रमण

जिलाधिकारी ने कहा कि शहर के छह चौराहों के सौंदर्यीकरण के दौरान आवश्यकता पड़ने पर पूरे क्षेत्र से अतिक्रमण को भी हटाया जाएगा। उन्होंने बताया कि चौराहों के सौंदर्यीकरण के दौरान क्षेत्र में अतिक्रमण किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस सभी चौराहों को अतिक्रमण से पूरी तरह से मुक्त किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शहर में बने डिवायडरों से यदि शहर में जाम लग रहा है तो यातायात समिति की बैठक में इस पर फिर से चर्चा की जाएगी। आवश्यकता पड़े तो महत्वपूर्ण क्षेत्रों से डिवायडरों को हटाया भी जाएगा।

मुखानी की तरह हल्द्वानी के अन्य 10 चौराहों पर ट्रैफिक लाइट लगेंगी

जिलाधिकारी बंसल ने बताया कि मुखानी चौराहे की तरह शहर के दूसरे 10 चौराहों में जल्द ट्रैफिक लाइट लगा दी जाएंगी। शहर के प्रमुख चौराहों में ट्रैफिक लाइट लगने से यातायात व्यवस्था में काफी हद तक सुधार होगा। हर चौराहे पर ट्रैफिक लाइट लगाने से हर क्षेत्र में वाहन डायवर्ट होंगे। इससे एक ही स्थान पर वाहनों का बढ़ने वाला दबाव भी नियंत्रित होगा। उन्होंने बताया कि मुखानी चौराहे पर ट्रैफिक लाइट से लगने वाले जाम को देखते हुए नगर कवरिंग वाली सड़क पर चलने वाले वाहनों को अधिक समय दिया जाएगा। ताकि इस मार्ग पर लगने वाले जाम की स्थिति को कम किया जा सके।

अमृतपुर बाईपास का निर्माण शीघ्र होगा शुरू

डीएम ने कहा कि शहर में वाहनों के दबाव को कम करने के लिए अमृतपुर बाईपास का निर्माण बहुत जरूरी है। मुख्यमंत्री घोषणा में शामिल किए जाने के बाद से इस योजना पर तेजी के साथ कार्यवाही आगे बढ़ रही है। उन्होंने बताया कि बाईपास निर्माण के लिए वन भूमि हस्तांतरण की कार्यवाही पूरी हो चुकी है। जिसके बाद डीपीआर तैयार कर शासन को भेज दी गई है। शासन से बजट मिलते ही योजना पर निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

देखिये हल्द्वानी नगर के इतिहास और वर्तमान की जानकारी देता विडियो ?

Leave a Reply