गैरसैण : उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी

0
101

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी ने राज्य के बजट 2020 के घोषणा के दौरान गैरसैंण को उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गैरसैंण के राजधानी बनने से पर्वतीय क्षेत्र के विकास को बढ़ावा मिलेगा और पर्वतीय क्षेत्र की योजनाओं को गति मिलेगी।

गैरसैण को राजधानी बनाने की मांग सबसे पहले 60 के दशक में उठी थी, गैरसैंण को स्थाई राजधानी बनाने की सबसे पहली मांग का श्रेय पेशावर कांड के महानायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली को जाता है। उत्तराखंड राज्य बनने के बाद गैरसैंण को स्थाई राजधानी बनाने के लिए कई आंदोलन हुए और इसकी मांग तेज होने लगी थी।

गैरसैण उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित है। उत्तराखंड राज्य के मध्य में होने के कारण कई बार गैरसैंण को स्थाई राजधानी बनाने के लिए मांग उठी है। उत्तराखंड की लगभग 70% जनता गैरसैंण को स्थाई राजधानी के रूप में चाहती है।

गैरसैण समुद्र की सतह से 5750 फुट की ऊंचाई पर स्थित अति सुंदर मैदानी भाग है। गैरसैण में कुमाऊनी और गढ़वाली मिश्रित बोलियां बोली जाती हैं।

अधिक जानकारी के लिए यूट्यूब वीडियो देखें- ?

(उत्तरापीडिया के अपडेट पाने के फेसबुक ग्रुप से जुड़ें! आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here