इतिहास

भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत जी : अनमोल रत्न

भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत जी का जन्म 10 सितंबर 1887 में उत्तराखंड राज्य के अल्मोड़ा जिले के खूंट (धामस) नामक गांव में...

एक हथिया नौला ( एक रात में एक हाथ से तैयार हुआ नौला )

एक हथिया देवाल एक अभिशप्त देवालय ( नौला )का नाम है। यह सीमान्त जनपद पिथौरागढ़ के कस्बे थल से लगभग छः किलोमीटर दूर ग्राम...

गुरु सर्वश्रेष्ठ पथ प्रदर्शक

“माता-पिता की मूरत है गुरू, इस कलयुग में भगवान   की सूरत है गुरू” शिक्षक समाज के निर्माणकर्ता है, वही समाज के मार्गदर्शक होते हैं। गुरु...

अल्मोड़ा के दौलाघट तिखौन पट्टी में मिले रुद्रचंद के समय के ताम्रपत्र

अल्मोड़ा जिले के दौलाघट तिखौन पट्टी के अंतर्गत छाना गांव में मोहन चन्द्र तिवारी के घर में दुर्लभ ताम्र पत्र मिला है। ये 424...

प्राचीन और देश का दूसरा सबसे बड़ा सूर्य मंदिर – “कटारमल सूर्य मंदिर”

आज हम एक ऐसे प्राचीन धार्मिक स्थल की बात करने जा रहे हैं, जो देवभूमि उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के कटारमल नामक स्थान पर...

Popular

Subscribe

spot_imgspot_img
error: