10 बातें, जो आपके पहाड़ों की यात्रा को आरामदायक बना देंगी।

बाइक से आए या कार से पहाड़ी रोड पर,  घुमावदार मोड़ों से सफर करते हुए अक्सर लोग परेशान हो जाते हैं तो यह 10  बातें आपके सफर को और भी आरामदायक बना देंगी।

  1. पहाड़ी रास्तों में चलते हुए वाहन में बुक पढ़ने, मोबाइल व  लैपटॉप के स्क्रीन में देखने से बचें, क्योंकि मोशन के विपरीत किसी भी चीज पर ध्यान देने कई सर  दर्द, चक्कर  आने, मितली  आने  जैसी  कई परेशानियां हो सकती है, जो यात्रा  के  अनुभव  को  ख़राब  कर  देंगी।
  2. पहाड़ों में डेनिम की जगह, कॉर्डरॉय क्लोधिंग ठंड रोकने के लिए अधिकार कारगर है, साथ ही मौसम के अनुसार कपड़ों रखें, पहाड़ी डेस्टिनेशन  में जितने हाई एल्टीट्यूड में जाएंगे, ठंड उतनी ही ज्यादा होगी।

  3. पहाड़ों में सफर करते हुए कान ढ़क कर रखें क्योंकि यहां बहती ठंडी हवाओं में नमी भी होती है, कान में जाने से परेशानी हो सकती है।
  4. पहाड़ी घुमावदर रोड्स में एक दिन में डेढ़ ज़्यादा से ज़्यादा दो सौ किलोमीटर तक ही ड्राइव करें, आसपास के दृश्यों  का आनंद लेते हुए धीरे-धीरे चलें और ठहरते हुए आगे बढ़े।
  5. पहाड़ी सड़कों पर दिन में ही ड्राइव करें, शाम होने से पहले कहीं रुक जाएं रात में होटल मिलने में परेशानी होगी, क्योंकि पहाड़ों में ज्यादातर जगहों पर स्थानीय बाजार शाम को जल्दी बंद हो जाती है।पहाड़ों में आते हुए अपने वाहन में पर्याप्त फ्यूल रखें, क्योंकि फ़िलिंग स्टेशन कई जगह बहुत दूर है।
  6. घर से बाहर भोजन कुछ अलग टेस्ट में मिलता है इसलिए बाहर भोजन लेते हुए, आप सामान्यतः जितना लेते हैं उसका आधा यह दो तिहाई ही लें, जिससे अगर फ़ूड अनुकूल न भी हो, तो भी डायजेस्ट करने में अधिक दिक्कत नहीं होगी। सलाद अधिक  लें।
  7. पहाड़ों में घूमते समय ज्यादा एनर्जी खर्च होती है ज्यादा पसीना निकलता है, जिससे डिहाइड्रेशन हो सकता है, इससे बचने के लिए अपने साथ एनर्जी ड्रिंक्स अथवा इलेक्ट्रोल रखें जिसे नियमित अंतराल पर पीते रहें।
  8. पहाड़ों में गूगल मैप को ऑफलाइन डाउनलोड करके रखें, क्योंकि इंटरनेट कनेक्टिविटी हर जगह नहीं मिलती, भ्रम होने की स्थिति में स्थानीय लोगों से भी पूछ लें, कई जगह नए रूट्स बन रहे हैं, और कई रूट्स बंद हो जाते है
  9. कितनी भी जल्दी हो मोड़ों पर कभी भी पास ना ले, है कभी मोड़ो पर अचानक से कोई अनएक्सपेक्टेड ऑब्जेक्ट जैसे कोई वन्य प्राणी या पहाड़ी से गिरकर आया कोई चट्टान का टुकड़ा हो सकता है साथ ही पहाड़ी सड़कों पर अपने वाहन को निर्धारित  गति सीमा में ही रखें, पहाड़ी सड़के तेज रफ्तार वाहनों के लिए नहीं बनी है।

उम्मीद है यह कुछ बातें आपके पहाड़ों में सफर के अनुभव को और भी बेहतर बनाए रखने में आपकी सहायता करेंगी। शेयर करें आपके मित्रों के साथ जो पहाड़ों की यात्रा में निकलने वाले हैं।

Related posts

Black Friday ब्लैक फ़्राइडे कहाँ से और कैसे शुरू हुआ!

Binsar: Unveiling the Himalayan Splendor in Uttarakhand’s Hidden Gem

Uttarakhand: Discover 50 Captivating Reasons to Visit